Saturday, March 5, 2011

सिसकती मानवता

सिसकती मानवता

वर्तमान समय का किसी के द्वारा आँखों देखा हाल कविता के माध्यम से प्रस्तुत है.

शासक ने शासित को लूटा औ धनिकों ने निर्धन को
निस्सहाय को न्याय कहाँ है सबल कूटते निर्बल को
कठपुतली का खेल चल रहा संसद के गलियारे में
खेलों से आहत मानवता सिसक रही अंधियारे में |१|

दंगों में जलते घर देखे और दिखे शव सड़कों पर
रक्षक ही उत्पात मचाकर नंगा नाचें सड़कों पर
खेल खून का होता निश-दिन नेता के चौबारे में
नेता से आहत मानवता सिसक रही अंधियारे में |२|

बोली लगती देखी मैंने कुछ फौजी की साँसों पर
और सजा बाज़ार भी देखा इन सैनिक की लाशों पर.
होता था व्यापार वीर का कैसे एक इशारे में
वीरों-सी आहत मानवता सिसक रही अंधियारे में. |३|

हिमगिरी को ललकार रहा वो जिसकी है औकात नहीं
सोता शासक लेकिन ऐसे जैसे कोई बात नहीं.
डर है, हो विष्फोट कहीं ना "डल" के किसी शिकारे में.
इस डर से आहत मानवता सिसक रही अंधियारे में. |४|

झूठी शान के खातिर औरत मरती अपनों के हाथों.
कुछ पैसों के खातिर औरत बिकती अपनों के हाथों.
इज्जत लूट रहे हैं पापी दिन के ही उजियारे में.
पापी से आहत मानवता सिसक रही अंधियारे में. |५|

राजेश "नचिकेता"

44 comments:

  1. यही है असली सच्चाई हमारी और हमारे देश की सभी लोड मानवता को आहत कर रहें है मानवता सिसक रही अंधियारे में
    सच्चाई को वयां करती हुई दिल कि गहराई से लिखी गयी रचना ,बधाई

    ReplyDelete
  2. बोली लगती देखी मैंने कुछ फौजी की साँसों पर
    और सजा बाज़ार भी देखा इन सैनिक की लाशों पर.
    होता था व्यापार वीर का कैसे एक इशारे में
    वीरों-सी आहत मानवता सिसक रही अंधियारे में. |

    Wonderful creation !
    so true .

    .

    ReplyDelete
  3. आक्रोषित दिल का क्रंदन आपकी सुंदर अभिव्यक्ति में हुआ है.काश !
    सभी इसे सुन पाते और मानवता के कल्याण हेतु निवारण के लिए कुछ ठोस विचार और कर्म समर्पित हो जाते .

    ReplyDelete
  4. बड़ी ही मार्मिक कविता, हम भी न जाने कितनों से आहत हैं।

    ReplyDelete
  5. कविता के माध्यम से सत्य अभिव्यक्ति है.
    मेरे ब्लॉग पर पहले ही ज्योतिष के बहुत से लेख प्रकाशित हो चुके हैं.आपकी इच्छानुसार आगे और भी देंगे.

    ReplyDelete
  6. समाधान जनता-जनार्दन के हाथों में ही है।

    ReplyDelete
  7. सत्य को कहती अच्छी रचना .

    ReplyDelete
  8. दंगों में जलते घर देखे और दिखे शव सड़कों पर
    रक्षक ही उत्पात मचाकर नंगा नाचें सड़कों पर
    खेल खून का होता निश-दिन नेता के चौबारे में
    नेता से आहत मानवता सिसक रही अंधियारे में |२|

    बहुत सुंदर... बेहद अर्थपूर्ण पंक्तियाँ हैं.... आपकी लिखी हर पंक्ति सच को समेटे है..... सार्थक रचना ....

    ReplyDelete
  9. सच्चाई को वयां करती हुई दिल कि गहराई से लिखी गयी रचना| धन्यवाद|

    ReplyDelete
  10. कड़वी सच्चाइयों से भरी आपकी रचना मन को व्यथित करती है.

    ReplyDelete
  11. वर्त्तमान का विद्रूप उजागर किया है आपने... राजेश जी यही कड़वी सचाई है आज की!!

    ReplyDelete
  12. आधुनिक, सामाजिक, और राजनीतिक विद्रूपता का सम्यक, व् मार्मिक स्पंदन प्रस्तुत किया है

    ReplyDelete
  13. bhut khoob likhte hai aap....keep it up...

    ReplyDelete
  14. सभी टिप्पणीकारों का सराहना और टिप्पणी के लिए बहुत बहुत धन्यवाद.

    ReplyDelete
  15. vaah... khoon khaula diya... ek kitaab nikalo yaar rajesh bhiya... :) sujhav hai sincere.. :)

    ReplyDelete
  16. सचाई बयाँ करती ये पंक्तियाँ आँखों खोलने वाली है, आज की जरूरत है अच्छे और साहसिक कदम उठाने की, देश बहुत ही बुरे दौर से गुजर रहा है ! बहुत अच्छी कविता ... धन्यबाद !

    ReplyDelete
  17. चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पर आपकी प्रस्तुति मंगलवार 08-03 - 2011
    को ली गयी है ..नीचे दिए लिंक पर कृपया अपनी प्रतिक्रिया दे कर अपने सुझावों से अवगत कराएँ ...शुक्रिया ..

    http://charchamanch.uchcharan.com/

    ReplyDelete
  18. god bless you sir you have very nice job,
    aadhunik samaaj ki sachchyi yahi hai, kash vo jo lutate hain is samaj ko un logon tak ye kavita ja paati i mean they understand these meaning.,,,,

    all the best

    ReplyDelete
  19. हिमगिरी को ललकार रहा वो जिसकी है औकात नहीं
    सोता शासक लेकिन ऐसे जैसे कोई बात नहीं.
    डर है, हो विष्फोट कहीं ना "डल" के किसी शिकारे में.
    इस डर से आहत मानवता सिसक रही अंधियारे में. |४|

    लाज़वाब! हरेक पंक्ति दिल को छू जाती है..बहुत सटीक और सुन्दर प्रस्तुति..

    ReplyDelete
  20. rajesh ji, sahi kaha apne........
    badhiya rachna.......

    ReplyDelete
  21. बहुत ही सुन्दर रचना...!!

    क्रांतिकारी दृष्टिकोण के साथ

    समाज की कड़वी सच्चाई को दिखाती हुई...!!

    ReplyDelete
  22. झूठी शान के खातिर औरत मरती अपनों के हाथों.
    कुछ पैसों के खातिर औरत बिकती अपनों के हाथों.
    इज्जत लूट रहे हैं पापी दिन के ही उजियारे में.
    पापी से आहत मानवता सिसक रही अंधियारे में. |५|
    bahut hi gahre arth samate huye ,ati sundar

    ReplyDelete
  23. वाह अद्भुत प्रेरक कविता
    वीरों-सी आहत मानवता सिसक रही अंधियारे में
    कैसा विद्रूप की यह पीड़ा भी अधियारे की है -वीर कहाँ सबको अपना मर्म दिखता फिरता है ?

    ReplyDelete
  24. @मलयज, अमरनाथ, तुलसी,...आप लोगों ने इसे पढ़ा वही अबसे बड़ी तारीफ है.
    @संगीता जी, चर्चा में शामिल करने और सराहना के लिए धन्यवाद.
    @कैलाशजी, पूनम जी, ज्योयी जी, सुमन जी,,,,बहुमूल्य समय के लिए बहुत बहुत धन्यवाद.

    ReplyDelete
  25. @अरविन्द जी, बिलकुल सही कहा आपने, एक शिष्ट सैनिक अपने क्रंदन का प्रदर्शन भी नहीं कर सकता....वो शिष्ट सैनिक चाहे सीमा प्रहरी हो या देश का एक आम नागरिक.
    जानकार अच्छा लगा की कविता आप सब तक पंहुची..
    प्रणाम

    ReplyDelete
  26. हिमगिरी को ललकार रहा वो जिसकी है औकात नहीं
    सोता शासक लेकिन ऐसे जैसे कोई बात नहीं.
    डर है, हो विष्फोट कहीं ना "डल" के किसी शिकारे में.
    इस डर से आहत मानवता सिसक रही अंधियारे में....

    बहुत सुन्दर और भावपूर्ण कविता के लिए हार्दिक बधाई।

    ReplyDelete
  27. अर्थपूर्ण व लयपूर्ण अभिव्यक्ति....हर पंक्ति एक कठोत सत्य बताती है..

    ReplyDelete
  28. "कठपुतली का खेल चल रहा संसद के गलियारे में
    खेलों से आहत मानवता सिसक रही अंधियारे में |"

    आपकी रचना अपनी छाप छोड़ने में समर्थ है ! शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  29. bahut khoob...rajesh baabu...

    ReplyDelete
  30. sachchyee ka hubahu varnan.....bahut achcha kiye.

    ReplyDelete
  31. हिमगिरी को ललकार रहा वो जिसकी है औकात नहीं
    सोता शासक लेकिन ऐसे जैसे कोई बात नहीं.
    डर है, हो विष्फोट कहीं ना "डल" के किसी शिकारे में.
    इस डर से आहत मानवता सिसक रही अंधियारे में.


    बहुत ही खूब.
    सलाम.

    ReplyDelete
  32. कविता के माध्यम से सत्य अभिव्यक्ति है
    बहुत सुन्दर और भावपूर्ण कविता के लिए हार्दिक बधाई।

    ReplyDelete
  33. कई दिनों व्यस्त होने के कारण  ब्लॉग पर नहीं आ सका

    ReplyDelete
  34. holee kee bahut saaree badhaai

    ReplyDelete
  35. आपको होली के पावन और रंगमय पर्व पर हार्दिक शुभ कामनायें.

    ReplyDelete
  36. होली पर्व की हार्दिक शुभकामनायें|

    ReplyDelete
  37. होली पर आपको सपरिवार शुभकामनायें

    ReplyDelete
  38. आपको सपरिवार होली की हार्दिक शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  39. सब पाठकों को होली की बहुत बहुत शुभकामना....

    ReplyDelete
  40. Bahut achchha likha hai .....bahut khub..

    ReplyDelete