Saturday, February 19, 2011

तू कहाँ: चंद मुक्तक

तू कहाँ: चंद मुक्तक
ये मुक्तक सर्वशक्तिमान शक्ति का पता बताने का एक प्रयास है. इन मुक्तकों का प्रयोजन कर्म कांडों से परे होकर आपसी सद्भाव के लिए प्रेरित करना है ताकि आपसी प्रेम वापस स्थापित हो सके. यह किसी भी पंथ, सम्प्रदाय, या धर्म के प्रति कोई द्वेष नहीं रखता.

नहीं रहता वो मंदिर में नहीं मस्जिद में पाओगे.
जरूरी है नहीं मिल जाय गर तीरथ भी जाओगे.
उसे मतलब नहीं आजान या अरदास, कीर्तन से.
जहाँ पर भाई-चारा हो, वहाँ सब ईश पाओगे.||१||

मर गयी ढूंढती दुनिया मगर भगवान ना पाया.
किया जप तप नियम फिर भी किसी ने ईश ना पाया.
पीर औ फादरों के द्वार पे भटका मगर कह दूं .
जहाँ थी प्रेम की गंगा, वहीं अल्लाह को पाया.||२||

धरा दरवेश का हुलिया बना साधू औ सन्यासी
पहन के देख ली वल्कल रही पर आतमा प्यासी.
बना नागा मगर फिर भी जुड़ा ना शांति से नाता.
जो उतरा झूठ का चोगा, मिली खुशियाँ यहीं सारी.||३||

हविश जलने से बोलो क्या किसी को स्वर्ग मिलता है?
या बस सरिता नहाने से किसे अपवर्ग मिलता है?
अरे परलोक की चिंता बता करता है क्यूं प्यारे
जहाँ "तेरा-मेरा" ना हो, वहीं त्रैलोक मिलता है. ||४||

मिटाए द्वेष का मल जो वही तो धर्म अच्छा है.
कुटुम्बी हो सभी नर बस यही तो मर्म सच्चा है.
किसी को कष्ट देने से बड़ा है पाप ना कोई
दीन की हो अगर सेवा, तो समझो कर्म अच्छा है.||५||

नींद से जाग जा बन्दे कहीं ना देर हो जाए.
पकड़ ले अब सही रास्ता कहीं ना देर हो जाए.
ना जाने टूट जाये कब ये अपनी सांस की डोरी.
फ़टाफ़ट काम निबटा ले, कहीं ना देर हो जाए.||६||

राजेश कुमार "नचिकेता"

45 comments:

  1. मिटाए द्वेष का मल जो वही तो धर्म अच्छा है.
    कुटुम्बी हो सभी नर बस यही तो मर्म सच्चा है.
    किसी को कष्ट देने से बड़ा है पाप ना कोई
    दीन की हो अगर सेवा, तो समझो कर्म अच्छा है.||५||

    सभी मुक्तक अर्थपूर्ण लगे........ यह खास अच्छा लगा ....

    ReplyDelete
  2. बहुत बेहतरीन मुक्तक!! वाह!!

    ReplyDelete
  3. सुन्दर विचार, सुन्दर काव्य, धन्यवाद!

    ReplyDelete
  4. बहुत प्रेरणादायक रचना लिखी है,फिर क्या हो गया जो हमारी बात गलत समझे ,कृपया अप्नेप्रष्ण का उत्तर देख लें.

    ReplyDelete
  5. @विजय साहब, प्रणाम. आप यहाँ तक आये उसके लिए धन्यवाद.
    यह बात तो है की सीता उतनी पूजित नहीं हुई जितने राम. लेकिन राम के चरित्र के बारे में कोई टिप्पणी न कर के उनके जीवन की ग्रह्य बाते अपने जीवन में उतारने की जरूरत है.
    लोग जहां मनोरंजन करने वाले विदूषक की तरह वेश भूसा तो बना सकते हैं लेकिन राम कथा से कोई प्रेरणा नहें लेना चाहते. क्योकी कोई भी राम व् सीता जैसे त्याग के लिए बिलकुल तैयार नहीं है...आपकी व्याख्या सही है....
    धीरे धीरे आपके लिखित सारे पोस्ट पढूंगा...जान के उत्साहित हूँ की आप ज्योतिषाचार्य हैं.

    ReplyDelete
  6. @आशुतोष, समीर जी, मोनिका जी, एवं अनुराग शर्मा जी
    आपका बहुत बहुत धन्यवाद.

    ReplyDelete
  7. rajesh ji bahut sunder muktak hai.
    aapki rachna padhkar bas itna hi kahati hun ki
    jisko pujte hai pujne vale vo shivale aur hotehai....

    ReplyDelete
  8. आपने मुक्तकों के माध्यम से भगवान का सही पता दिया है. सभी मुक्तक सुन्दर.

    ReplyDelete
  9. नींद से जाग जा बन्दे कहीं ना देर हो जाए.
    पकड़ ले अब सही रास्ता कहीं ना देर हो जाए.
    ना जाने टूट जाये कब ये अपनी सांस की डोरी.
    फ़टाफ़ट काम निबटा ले, कहीं ना देर हो जाए...

    सभी मुक्तक सार्थक सन्देश दे रहे हैं ।
    आभार।

    .

    ReplyDelete
  10. आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
    प्रस्तुति भी कल के चर्चा मंच का आकर्षण बनी है
    कल (21-2-2011) के चर्चा मंच पर अपनी पोस्ट
    देखियेगा और अपने विचारों से चर्चामंच पर आकर
    अवगत कराइयेगा और हमारा हौसला बढाइयेगा।

    http://charchamanch.blogspot.com/

    ReplyDelete
  11. बहुत ही बढ़िया मुक्तक लिखें हैं. इनकी अंतर्धारा में संतों का दर्शन बह रहा है. जितनी प्रशंसा की जाए उतनी कम है.

    ReplyDelete
  12. गीत को कुरान से बू आती है, राम को रहीम से बू आती है,
    अफ़सोस हम ऐसे समाज मे रहते हैं जहां इन्सान को इन्सान से बू आती है !

    ReplyDelete
  13. kis line ki tareef karoo aur kis par tippani karoo.....bada mushkil main daal diya aapne...
    itna sundar kaise likh lete hai...

    "khuda khud main khuda ko dhoondta hai tu kahan pyaare.....
    jara kar band aankh apni yahan hai vo, yahan pyaare !!!"

    are vah !
    ye to achhi line ho gai....!!
    thanx to inspire me...

    ReplyDelete
  14. जीवन दर्शन से परिपूर्ण सुंदर रचना के लिए बधाई।

    ReplyDelete
  15. @सुमन जी, सही कहा आपने.
    @कुंवर जी,
    @दिव्या जी.
    आप सभी के स्नेह और प्रोत्साहन के लिए धन्यवाद.

    ReplyDelete
  16. @वन्दना जी, मेरे लिए बड़ी खुशी की बात है की मेरी रचना चर्चा योग्य समझी गयी. आभारी हूँ और चर्चा में जरूर हिस्सा लूँगा.
    @भूषन जी, आप सब हा समर्थन और स्नेह मिलता है तो कुछ कोशिश कर पाटा हूँ. प्रणाम.
    @जगदीश बाली साहब, मुझसे जुड़ने के लिए धन्यवाद. आपकी पंक्तियाँ अभी के समाज के लिए सही बैठ रही है...

    ReplyDelete
  17. @तुलसी, thanks
    @पूनम जी, आप सब का स्नेह और माँ भारती के आशीष से कुछ प्यायास करता हूँ. आप सब को पसंद आता है तो आभारी मानता हूँ खुद को.
    @शरद जी, आपकी उदारता के लिए धन्यवाद. आपने समय निकाला. प्रणाम.

    ReplyDelete
  18. सुविचार ....अच्छे मुक्तक

    ReplyDelete
  19. अध्यात्म के चरमोत्कर्ष की स्थिति को जीवन में पदार्पित करने का सुंदर सन्देश

    ReplyDelete
  20. सुन्दर विचार, सुन्दर काव्य, धन्यवाद!

    ReplyDelete
  21. मिटाए दिल से द्वेष वही धर्म अच्छा ...
    यदि शांति और प्रेम की स्थापना में विश्वास नहीं तो लाख धार्मिक आडम्बर कर ले , ईश्वर की प्राप्ति नहीं हो सकती !
    सभी मुक्तक एक से बढ़कर एक !

    ReplyDelete
  22. सभी मुक्तक एक से बढ़कर एक हैं।
    हविश जलने से बोलो क्या किसी को स्वर्ग मिलता है?
    या बस सरिता नहाने से किसे अपवर्ग मिलता है?
    अरे परलोक की चिंता बता करता है क्यूं प्यारे
    जहाँ "तेरा-मेरा" ना हो, वहीं त्रैलोक मिलता है. |
    ...लाज़वाब। बहुत बधाई।

    ReplyDelete
  23. @संगीता जी,
    @गिरधारी जी,
    @सत्यम जी,
    @शिवा जी.
    @गोपाल जी,
    सब का धन्यवाद.

    ReplyDelete
  24. @वाणी जी,
    यही सोच के मैंने भी लिखा...आडम्बर में फंस कर प्रभू से दूरी हो गयी है....
    अच्छा लगा जान कर की कविता आप तक पंहुची...प्रणाम.
    @ देवेन्द्र जी...धन्यवाद.

    ReplyDelete
  25. ati sunder abhivyakti ke liye bahut bahut bandhai.Aapka man nimal aur dwesh rahit prateet
    ho raha hai aapki is abhivyakti se.Aapka mere
    blog 'Mansa vacha karmna' par swagat hai.

    ReplyDelete
  26. लगा कि‍ वाकई आप धर्म सम्‍प्रदायों के होने के नुक्‍सान जानते हैं, चलि‍ये कभी मि‍लि‍ये यहां पर http://rajey.blogspot.com/

    ReplyDelete
  27. बहुत ही अच्छी रचना है जीतनी भी प्रशंसा की जाय कम है| आप ऐसे ही लिखते रहे इश्वर से यही प्रार्थना है ...

    ReplyDelete
  28. नींद से जगना होगा, देर नहीं होने देनी है।

    ReplyDelete
  29. राकेश जी, विवेक जी और praveen जी,
    बहुत बहुत धन्यवाद.
    @ राजे साहब,
    मैं धर्म में मानता हूँ. समस्या अनावश्यक आडम्बरों के कारण है.. और विशेषकर गलत प्रणाली के तहत कर्म काण्ड करने में. कर्म-काण्ड का महत्त्व होता होगा मैं नहीं जानता. या यूं कहें की समझ नहीं पता...

    ReplyDelete
  30. बेहतरीन रचना -बल्कि मोक्ष का द्वार दिखाती रचना !

    ReplyDelete
  31. राजेश जी .
    आपने मेरे ब्लॉग 'मनसा वाचा कर्मणा' पर अपने सुन्दर सार्थक विचारों का सहयोग प्रदान कर मेरा मनोबल बढ़ाया है.इस के लिए आपका आभारी हूँ.कृपया,समय समय पर आते रहिएगा. आपका
    मार्गदर्शन मिलता रहेगा , ऐसी आपसे आशा रखता हूँ .

    ReplyDelete
  32. यह मुक्तक बड़ा ही प्रभावशाली है , मुझे इसका दूसरा छंद बहुत पसंद आया. बहुत अच्छा..

    ReplyDelete
  33. नींद से जाग जा बन्दे कहीं ना देर हो जाए.
    पकड़ ले अब सही रास्ता कहीं ना देर हो जाए.
    ना जाने टूट जाये कब ये अपनी सांस की डोरी.
    फ़टाफ़ट काम निबटा ले, कहीं ना देर हो जाए.||६||
    bahut badhiya .

    ReplyDelete
  34. जीवन दर्शन से परिपूर्ण सुंदर रचना| धन्यवाद|

    ReplyDelete
  35. @अरविन्द साहब,
    @राकेश जी,
    @अमरनाथ जी,
    @ज्योति जी,
    @जोशी जी,
    आप सब का बहुत बहुत धन्यवाद.

    ReplyDelete
  36. मिटाए द्वेष का मल जो वही तो धर्म अच्छा है.
    कुटुम्बी हो सभी नर बस यही तो मर्म सच्चा है.
    किसी को कष्ट देने से बड़ा है पाप ना कोई
    दीन की हो अगर सेवा, तो समझो कर्म अच्छा है...

    एक से बढ कर एक मुक्तक ....उम्दा रचना ...

    ReplyDelete
  37. आपका प्रयास शत-प्रतिशत सफल है .इससे बेहतर कुछ और संभवतः ...नहीं हो सकता .एक से बढ़कर एक सभी मुक्तक. लाज़वाब। बहुत बधाई।

    ReplyDelete
  38. इन पंक्तियों में जीवन की पूर्णता का सूत्र छिपा है।

    ReplyDelete
  39. नहीं रहता वो मंदिर में नहीं मस्जिद में पाओगे.
    जरूरी है नहीं मिल जाय गर तीरथ भी जाओगे.
    उसे मतलब नहीं आजान या अरदास, कीर्तन से.
    जहाँ पर भाई-चारा हो, वहाँ सब ईश पाओगे. kya lines hain...really goood.

    ReplyDelete
  40. @क्षितिजा जी
    @अमृता जी,
    @राधारमण साहब
    @गोपाल जी,
    आप सब का और अन्य सभी टिप्पणीकारों का बहुत बहुत धन्यवाद.

    ReplyDelete
  41. सही कहा है राजेश जी......जहाँ प्रेम है वहीं ईश्वर है..तभी तो प्रेम करने वालों को ईश्वर को ढूँढने की ज़रूरत नहीं पड़ती...

    ReplyDelete